UA-170179527-1

Khana khane ki dua aur uske adaab

Khana khane ki dua aur uske adaab

दीन ऐ इस्लाम ने ज़िंदगी गुजारने के कुछ आदाब बताए है की ज़िन्दगी में को अमल करना है वो किस तरह से करना है,उसके शारिय आदाब क्या है इसी तरह आज हम Khana khane ki dua aur uske adaab के बारे में बात करेंगे।

Khana khane ke adaab

#1- खाना खाने से पहले दोनों हाथों को अच्छी तरह धोना और कुल्ली करना।

#2- खाना Bismilla hirrahma nirraheem पढ़ कर शुरू करना।

#3- दाहिने हाथ से खाना खाना,इसी तरह किसी दूसरे को खाना देना जो तब भी दाहिना हाथ इस्तेमाल करना ।

#4- इकठ्ठे बैठ कर खाना खाना,खाना खाने में जितने लोग इकठ्ठा होंगे उतनी ही बरकत खाने में होगी।

#5- बैठ कर खाना, उकुडू बैठ कर या दोनों जांघ के ऊपर बैठना,जैसे एक गुठना खड़ा हो और दूसरे को बिछा कर उस पर बैठे या दोनों गुठने ज़मीन पर बिछा दे तब खाना खाए ।

#6- दस्तरख़्वान बिछा कर खाना खाना।

#7- खाना खाने के दुआ पढ़ना।

#8- अपने सामने से खाना खाना।

#9- दाहिने हाथ से खाना खाना, खाने की महफ़िल में जो आदमी सबसे ज्यादा बुज़ुर्ग हो उस से खाना शुरू करवाना।

#10- खाना एक तरह का हो जैसे बिरयानी, वगैरह तो अपने सामने से खाना बर्तन के बीच में या दूसरे आदमी के आगे हाथ ना डालना।

#11- बहुत ज़्यादा तेज़ गर्म खाना नहीं खाना ।

#12- जिस आदमी ने खाना पकाया हो उसको खाने में शामिल करना।या उसको खाने में से कुछ अलग से से देना।

#13- खाना खाने के दरमियान कोई आ जाए तो उसे भी बुला लेना।

#14- खाना खाने के बाद हाथ को धुलना और कुल्ली करना।

#15- अगर कोई निवाला गिर जाए तो उसे उठा कर साफ़ करके खा लेना चाहिए।

#16- टेक लगा कर खाना ना खाना।

#17- खाने में कोई अयेब ना निकालना।

#18- जूता उतार कर खाना खाना।

#19- खाने के बाद बर्तन पियाला और प्लेट को साफ करना।

#20-अगर आपका साथी खाना खा रहा हो तो उसका साथ देना ताकि वह पेट भर के खाना खा ले अगर किसी मजबूरी में खाने से अलग हो तो इज़ाजत के कर अलग हो।

#21- मुंह बंद करके खाना खाये ताकि चप चप की आवाज ना आए।

#22- सर को ढक कर खाना खाना।

#23- पहले दस्तरखान उठाना फिर खुद उठना।

#24-दस्तरख्वान उठाने की दुआ पढ़ना:- अल्हम्दुलिल्लाह हम दन कसीरन तय्यीबन मुबाराकन फीह गैरा मु किफ्फी वाला मुवददई वला मस्तगनन अनहु रब्बना।

#25- अगर शुरू में Bismillahir-rahmanir raheem भूल जाए तो ये दुआ पढ़े

‘Bismillahi awwalahu wa akhirahu

#26- जब किसी के यहां खाना खाए तो मेजबान को ये दुआ पढ़े।

Allahumma at im man at amani waski man sakaani

अल्ला हुममा अतइम मन अत अमानी वस्की मन सकानी

#27- खाने के वक्त बिल्कुल ख़ामोश रहना मकरूह है।

#28- जब खाना खा चुके तो ये दुआ पढ़े

Alahumdulillahil lazi at amana wa sakaana wa ja alna minal muslimeen

अल्हम्दु लिल्लाहिल लजि अत अमना वा सकाना वजा अलना मिनल मुस्लिमीन।

Ye bhi padhe

Khana khane se pehle aur baad ki dua

जब खाना शुरू करे तो ये दुआ पढ़े

Bismilla hirrahma nirraheem

बिस्मिला हिर्रह्मनिर रहीम

अगर शुरू में Bismillahir-rahmanir raheem पढ़ना भूल जाए तो ये दुआ पढ़े

Bismillahi awwalahu wa akhirahu

बिस्मिल्लाहि अव्वालाहू वा अखिराहु

जब खाना खा चुके तो ये दुआ पढ़े

Alahumdulillahil lazi at amana wa sakaana wa ja alna minal muslimeen

अल्हम्दु लिल्लाहिल लजि अत अमना वा सकाना वजा अलना मिनल मुस्लिमीन

Jazakallah hu khair

Share for Khair

  • 45
    Shares

Leave a Comment